कुक्कुट विकास कार्यक्रम

 

रूरल बैकयार्ड योजना (60 प्रतिशत केन्द्र पोषित)

 

उद्देश्य- ग्रामीण क्षेत्रों में कुक्कुट की बैक्यार्ड इकाईयां स्थापित करना तथा लाभार्थियों को लगातार चूजों की आपूर्ति हेतु मदर यूनिट की स्थापना करना। 

 

विशेषतायें- यह योजना बी0पी0एल0 वर्ग के लाभार्थियों के लिए है, जिसके अन्तर्गत एक मदर यूनिट स्थापित की जाती है। जहां पर एक माह तक चूजों का पालन पोषण किया जाता है। एक मदर यूनिट से 300 लाभार्थी सम्बद्ध होते हैं। मदर यूनिट संचालक को रू0 60000/- का अनुदान दिया जाता है और उसे रू0 1.50 लाख की धनराशि मदर यूनिट के सुदृढ़ीकरण में लगानी होती है। प्रति चूजा रू0 50/- की दर से एक माह तक चूजों के पालन पोषण के लिए दिया जाता है। प्रति लाभार्थी एक माह के 25 चूजे दो चरणों में (15+10) दिये जाते हैं जिसका पालन-पोषण लाभार्थी द्वारा किया जाता है तथा अण्डा एवं मास उत्पादन से आय प्राप्त करता है। 

 

लाभ-         एक माह के चूजे प्राप्त होने के कारण लाभार्थी को चूजे पालने में आसानी होती है तथा कम समय में ही अण्डे प्राप्त होने लगते है। अण्डों के साथ-साथ कुक्कुट मांस का भी उत्पादन होता है। लाभार्थी को अतिरिक्त आय मिलने के साथ रोजगार भी मिलता है।

 

अधिक जानकारी हेतु सम्पर्क करें                           

                                                                    डा0 वी0के0 सचान

                                                                संयुक्त निदेशक (कुक्कुट)

                                                                निदेशालय, पशुपालन विभाग

                                                                उ0प्र0 लखनऊ

                                                                मो0- 9415283894