कुक्कुट विकास कार्यक्रम

 

राष्ट्रीय कृषि विकास योजनान्तर्गत ब्रायलर पालन योजना

 

उद्देश्य-   सभी जाति के लाभार्थियों को छोटी-छोटी इकाईयां खुलवाकर रोजगार में स्थापित कर अतिरिक्त आय से जीवन स्तर में सुधार करना।

 

विशेषता- यह योजना बैंक ऋण आधारित योजना है। इसके अन्तर्गत 500-500 चूजों की ब्रायलर पालन इकाईयां खुलवाई जाती हैं। एक इकाई की लागत रू0 1.00 लाख होती हैं, जिसका 25 प्रतिशत अर्थात रू0 25000/- अनुदान होता है, 25 प्रतिशत अर्थात रू0 25000/- मार्जिन मनी तथा 50 प्रतिशत अर्थात रू0 50000/- बैंक ऋण होता है।

 

लाभ-    एक लाभार्थी एक वर्ष में रू0 70000/- की शुद्ध आय प्राप्त करता है। इस अतिरिक्त आय के साथ-साथ वह रोजगार में भी स्थापित होता है।

 

अधिक जानकारी हेतु सम्पर्क करें -            डा0 वी0के0 सचान

                                                                संयुक्त निदेशक (कुक्कुट)

                                                                निदेशालय, पशुपालन विभाग

                                                                उ0प्र0 लखनऊ

                                                                मो0- 9415283894